Friday 22 February 2013

रसूख वाले बलात्कारी नहीं होते...


केरल के सूर्यानेल्ली में लगातार चालीस दिनों तक बयालीस वहशी धोखेबाज मर्दों ने बर्बरता की सारी हदें पार कर सूर्यानेल्ली की उस सोलह साल की बच्ची को जैसे चाहा रौंदा था और लगभग मर जाने के बाद उसके घर के आसपास फेंक दिया था। वह किसी तरह बच गई और आज तैंतीस साल की उम्र में भी वह अपने आसपास के अंधेरों का सामना करती हुई अपनी लड़ाई को अंजाम देने के लिए अपने बूते खड़ी है, हर अगले पल अपने सामने एक शैतानी साम्राज्य से लड़ते हुए।  हां, वह मेरी हीरोईन है, वह सबकी नायिका है।

फिलहाल हकीकत यह है कि दूरदराज के इलाकों में होने वाली ऐसी तमाम घटनाएं हमारी संवेदना को नहीं झकझोर पाती हैं। सवाल करने वाले कर रहे हैं कि क्या हम केवल तभी परेशान होते हैं जब कोई घटना देश की राजधानी में हो, हमारे अपने वर्ग से जुड़ी हो। वरना दिल्ली में हुई सामूहिक बलात्कार की घटना के बाद इंडिया गेट के व्यापक आंदोलन से निकले संदेश के बीच इसी दौर में बिहार में सहरसा जिले के एक गांव में किसी दलित और मजदूर परिवार की आठ साल की बच्ची के साथ या मुजफ्फरपुर के मंडई गांव में एक दलित महिला के साथ देश के दूरदराज के इलाकों में सामूहिक बलात्कार करके बर्बरता की सारी हदें पार कर मार ही डाला जाता है... और इस तरह की तमाम घटनाएं अपनी त्रासदी के साथ लगातार घट ही रही हैं। लेकिन हमारे भीतर कभी भी गुस्सा पैदा नहीं होता... किसी टीवी वाले को इन घटनाओं पर लोगों को आंदोलित करने की जरूरत नहीं पड़ती...  इंडिया गेट पर कभी शोक में डूबी मोमबत्तियां नहीं जलाई जातीं...!

केरल में सूर्यानेल्ली की यह लड़की किसी तरह जिंदा बच गई थी। अगर देश के सुप्रीम कोर्ट ने दफन कर दिए गए मुकदमे पर सवाल नहीं उठाया होता तो इसमें भी अदालतों ने चुपचाप सभी अपराधियों को पवित्र ब्रह्मचारी घोषित कर ही दिया था। इसके बावजूद इस देश की महान पार्टी कांग्रेस के एक महान और "पवित्र" सांसद पीजे कूरियन यह कहते रहे कि उनके खिलाफ झूठा प्रचार किया जा रहा है। इस देश में सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश की सत्ताधारी पार्टी कूरियन का झंडा उठा कर कूद रही थी... सत्ता की दावेदार एक पार्टी अपनी इस बात की फिक्र को दूर करने की फिराक में लग रही कि उसके पूरे गिरोह को 'भगवा आतंकवाद' के आरोप से मुक्त कर दिया जाए...।

इस मामले में एक अपराधी धरमराजन ने बाकायदा टीवी चैनल पर यह कहा था कि "मैंने पूछताछ के दौरान डीआईजी सिबी मैथ्यू को सब कुछ सच-सच बता दिया है, लेकिन उन्होंने मुझे कूरियन का नाम लेने से मना किया; आज मैं इसलिए सच बता रहा हूं, क्योंकि मैं उस लड़की के लिए दुखी हूं; मैंने काफी बर्दाश्त कर लिया; अब मुझे इस बात की फिक्र नहीं कि आगे मेरे साथ क्या होगा; लेकिन सच सामने आना चाहिए; आज समूची दुनिया सोचती है कि मैं ही एक शैतान था; मैंने कूरियन को कुमिली आने के लिए नहीं कहा था, वे एक दूसरे कांग्रेसी नेता के लड़की के मेरे कब्जे में होने की खबर पाकर गए थे।

इतना साफ-साफ और सोच-समझ कर सब कुछ बताने के बाद अब वह एक बार फिर अपने बयान से मुकर गया और निचली अदालतों के साथ-साथ केरल हाईकोर्ट तक ने उस लड़की की यह फरियाद खारिज कर दी कि कूरियन को कठघरे में खड़ा किया जाए, क्योंकि वे कांड में शामिल थे। इसके पीछे के खेल का अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं है। इन हालात में यह उम्मीद करना बेमानी है कि इस लड़की की फरियाद किसी अदालत में सुनी जाएगी। फिर भी आखिरी हार तक एक उम्मीद की जाएगी, उस सुप्रीम कोर्ट से, जिसके आदेश पर एक बार फिर यह मामला खुल सका था।

बहरहाल, इस मामले में आगे क्या होगा, सभी अपराधी एक बार फिर से पवित्रीकरण की प्रक्रिया से गुजरेंगे या फिर सूर्यानेल्ली की लड़की पर ढाए गए जुल्म की सजा पा सकेंगे, यह हमारी व्यवस्था, अदालतों, राजनीतिक दलों के रुख पर निर्भर करेगा। लेकिन इसी के साथ राजधानी दिल्ली और ताकतवर मध्यवर्गीय संवेदनाओं से उपेक्षित ऐसी तमाम घटनाएं एक बार फिर सचमुच की समाजी और इंसानी संवेदनाओं की परीक्षा की कसौटी पर भी गुजरेंगी...। रोजाना के अनगिनत ऐसे मामलों की तरह... ।
17 फरवरी 2013 टाइम्स ऑफ इंडिया में सूर्यानेल्ली की लड़की की यह पीड़ा उसी के शब्दों में प्रकाशित हुई थी। अनुवाद करने की कोशिश मैंने ही की है। अंग्रेजी बहुत अच्छी नहीं है। इसलिए जहां भी जरूरी लगे, एक बार इस लिंक पर क्लिक कर लीजिएगा, लेकिन पढ़िएगा जरूर...  


मैं सचमुच अपने पहले प्यार का कत्ल कर देना चाहती थी...  


- सूर्यानेल्ली की लड़की

आपने शायद कभी मेरा नाम नहीं सुना हो! मुझे उस पहचान के साथ नत्थी कर दिया है, जिससे मैं छुटकारा नहीं पा सकती- मैं सूर्यानेल्ली की लड़की हूं। पिछले सत्रह (अब उन्नीस) सालों से मैं इंसाफ पाने की (एक हारी हुई) लड़ाई लड़ रही हूं। कुछ लोग मुझे बाल-वेश्या कहते हैं तो कुछ पीड़ित। लेकिन किसी ने मुझे दामिनी, निर्भया या अमानत जैसा कोई नाम नहीं दिया। मैं कभी भी इस देश के लिए गर्व नहीं बन सकती! या उस महिला का चेहरा भी नहीं, जिसके साथ बहुत बुरा हुआ।

मैं तो स्कूल में पढ़ने वाली सोलह साल की एक मासूम लड़की भी नहीं रह सकी, जिसे पहली बार किसी से प्यार हो गया था। लेकिन उसी के बाद उसने अपनी जिंदगी ही गंवा दी। अब तैंतीस साल की उम्र में मैं रोज  डरावने सपनों से जंग लड़ रही हूं। मेरी दुनिया अब महज उस काली घुमावदार सड़क के दायरे में कैद है जो मेरे घर से चर्च और मेरे दफ्तर तक जाती है।

लोग अपनी प्रवृत्ति के मुताबिक मुझ पर तब तंज कसते हैं जब मैं उन चालीस दिनों को याद करती हूं, जब मैं सिर्फ एक स्त्री शरीर बन कर रह गई थी और जिसे वे जैसे चाहते थे, रौंद और इस्तेमाल कर सकते थे। मुझे जानवरों की तरह बेचा गया, केरल के तमाम इलाकों में ले जाया गया, हर जगह किसी अंधेरे कमरे में धकेल दिया गया, मेरे साथ रात-दिन बलात्कार किया गया, मुझे लात-घूंसों से होश रहने तक पीटा गया।

वे मुझसे कहते हैं कि मैं कैसे सब कुछ याद रख सकती हूं, और मैं हैरान होती हूं कि मैं कैसे वह सब कुछ भुला सकती हूं? हर रात मैं अपनी आंखों के सामने नाचते उन खौफ़नाक दिनों के साथ किसी तरह थोड़ी देर एक तकलीफदेह नींद काट लेती हूं। और मैं एक अथाह अंधेरे गहरे शून्य में बार-बार जाग जाती हूं जहां घिनौने पुरुष और दुष्ट महिलाएं भरी पड़ी हैं।

मैं उन तमाम चेहरों को साफ-साफ याद कर सकती हूं। सबसे पहले राजू आया था। यह वही शख्स था, जिसे मैंने प्यार किया था और जिस पर भरोसा किया था। और उसी ने मेरे प्यार की इस कहानी को मोड़ देकर मुझे केरल के पहले सेक्स रैकेट की आग में झोंक दिया। रोजाना स्कूल जाने के रास्ते में जिस मर्द का चेहरा मेरी आंखें तलाशती रहती थीं, वही उनमें से एक था जिसे मैंने शिनाख्त परेड में पहचाना था और अदालत के गलियारे में मेरा उससे सामना हुआ। उन दिनों... मैं सचमुच उसका कत्ल कर देना चाहती थी। हां... अपने उस पहले प्रेमी का...।

लगभग मरी हुई हालत में उन्होंने मुझे मेरे घर के नजदीक फेंक दिया। लेकिन मेरे दुख का अंत वहीं नहीं हुआ। मेरा परिवार मेरे साथ खड़ा था। मैंने यह सोच कर मुकदमा दायर किया कि ऐसा किसी और लड़की के साथ नहीं हो। मैंने सोचा कि मैं बिल्कुल सही कर रही हूं। लेकिन इसने मेरे पूरे भरोसे को तोड़ दिया। मेरे मामले की जांच के लिए जो टीम थी, वह मुझे लेकर राज्य भर में कई जगहों पर गई। उसने मुझे अनगिनत बार उस सब कुछ का ब्योरा पेश करने को कहा जो सबने मेरे साथ किया था। उन्होंने मुझे इस बात का अहसास कराया कि एक औरत होना आसान नहीं है, वह पीड़ित हो या किसी तरह जिंदा बच गई हो।

मेरे लिए यह राहत की बात है कि दिल्ली की उस लड़की की मौत हो गई। वरना उसे सभी जगह ठीक वैसे ही अश्लील सवालों से रूबरू होना पड़ता जो उसे उस खौफनाक रात को भुगतना पड़ा। इसकी वजह बताने के लिए उसे बार-बार मजबूर किया जाता। और अकेले बिना किसी दोस्त के वह अपनी ही छाया से डरती हुई जिंदगी का बाकी वक्त किसी तरह काटती।

मेरा भी कोई दोस्त नहीं। मेरे दफ्तर में कोई भी मुझसे बात नहीं करना चाहता। मेरे मां-बाप और कर्नाटक में नौकरी करने वाली मेरी बहन ही बस वे लोग हैं जो मेरी आवाज सुन पाते हैं। हां, कुछ वकील, पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता भी।

मैंने इन दिनों खूब पढ़ा है। फिलहाल केआर मीरा की एक किताब "आराचार" (द हैंगमैन) पढ़ रही हूं।

मेरे परिवार के अलावा कोई भी नहीं जानता कि मैं अपनी गिरती सेहत को लेकर डरी हुई हूं। लगातार सिर दर्द, जो उन चालीस दिनों की त्रासदी का एक हिस्सा है जब उन्होंने मेरे सिर पर लात से मारा था। मेरे डॉक्टर कहते हैं कि मुझे ज्यादा तनाव में नहीं रहना चाहिए। और मैं सोचती हूं कि सचमुच ऐसा कर पाना दिलचस्प है।

मेरा वजन नब्बे किलो हो चुका है। जब मैं अपनी नौकरी से नौ महीने के लिए मुअत्तल कर दी गई थी, उस दौरान मेरा ज्यादातर वक्त बिस्तर पर ही कटता था और इसी वजह से वजन भी बढ़ता गया। अब मैं कुछ व्यायाम कर रही हूं। पूरी तरह ठीक हो पाना एक सपना भर है। लेकिन कुछ प्रार्थनाएं मुझे जिंदा रखे हुए हैं।

भविष्य पर मेरा यह यकीन अब भी जिंदा है कि एक दिन सब कुछ ठीक हो जाएगा। मैं हर सुबह और रात को प्रार्थना करती हूं। मैं नहीं पूछती कि फिर मुझे ही क्यों...! मैं उन दिनों भी उस पर भरोसा करती रही, जब मैं मुश्किल से अपनी आंखें खोल पाती थी या किसी तरह जिंदा थी। मैंने प्रार्थना की। मैं लैटिन चर्च से आती हूं जो कैथोलिक चर्च में सबसे बड़ा चर्च है। मगर पिछले सत्रह सालों से कहीं भी और किसी भी चर्च में मेरे लिए कोई प्रार्थना नहीं की गई। पवित्र मरियम को कोई गुलाब की माला अर्पित नहीं की गई और न ही कोई फरिश्ता अपने दयालु शब्दों के साथ मेरे दरवाजे पर आया।

लेकिन मेरा भरोसा टूटा नहीं है। इसने मुझे हफ्ते के सातों दिन चौबीसों घंटे चलने वाले टीवी चैनल देखने की ताकत बख्शी है, जहां कानून के रखवाले मुझे बाल-वेश्या बता रहे हैं, और कुछ मशहूर लोग इस बात पर चर्चा कर रहे हैं कि मेरे मुकदमा टिक नहीं पाएगा। यहां तक कि जब मैं दफ्तर में वित्तीय धोखाधड़ी के मामले में फंसाई गई हूं और मेरे माता-पिता बहुत बीमार चल रहे हैं, तब भी मैं खुद को समझाती हूं कि यह भी ठीक हो जाएगा... एक दिन..!!!

9 comments:

kriti said...

सूर्यनेल्ली की लड़की की मार्मिक कहानी उसी की ज़ुबानी सुनाने के लिए आपका धन्यवाद! कहानी इतनी मार्मिक है कि कुछ कहने के लिए शब्द नहीं है। अनुवाद भी काफी सहज है। मैं इसे अपने ब्लाग पर भी लगा रही हूं। एकबार फिर इसे हिन्दी में देने के लिए धन्यवाद!
कृति
www.kritisansar.noblogs.org

mukti said...

सूर्यानेल्ली की लड़की, हम तुम्हारे साथ हैं. यकीन मानो, जब हर कोई तुम्हारा भरोसा तोड़ देना चाहेगा, चाहेगा कि तुम भी मर जाओ दिल्ली की उस लड़की की तरह, तब भी हम तुम्हारे साथ होंगे. हम तुम्हारे भरोसे में तुम्हारे साथ हैं.

पुष्यमित्र said...

शेष, भाई कुछ दिन पहले मैंने एक गैंग रेप पीड़ित सोहेला अब्दुलाली की कहानी का अनुवाद अपने ब्लॉग पर यह साबित करने के लिए पेश किया था कि कौमार्य से अधिक कीमती जीवन है. मगर इस कहानी ने जो आपके ब्लॉग पर पढ़ रहा हूं, फिर से मुझे उस द्वंद्व में ढकेल दिया है कि चाहे कौमार्य हो या जीवन स्त्री के हाथ में हमने कुछ भी तो नहीं रहने दिया है. हालांकि फिर भी इस लड़की ने इतना कष्ट सहने के बाद जो अपना जीवन बचा लिया है, मुझे आज भी लगता है कि यह जीवन किसी सूरत में मौत से बदतर नहीं... आपकी इजाजत हो तो मैं इस आलेख को अपने ब्लॉग पर इस्तेमाल कर लूं...?

शेष said...

प्लीज...

इसे बिल्कुल अपने ब्लॉग पर लगा सकते हैं... इसके लिए किसी इजाजत की जरूरत नहीं।
यह मेरे लिए भी जरूरी होगा...
आपका बहुत शुक्रिया...

पुष्यमित्र said...

धन्यवाद शेष भाई

Digamber Ashu said...

इस तल्ख़ सच्चाई से रूबरू कराने के लिए दिल से शुक्रिया.

Anonymous said...

mein tumhare saath ho

vishvnath said...



बहुत दिनों बाद आपने लिखा,,,,,,,,आपके लेखो का इन्तेजार रहता है हमेशा

बहुत ही मार्मिक है ये लेख और घटना, सोचने को मजबूर करती है।
शेयर करने के लिए धन्यवाद।
Vishvnath

प्रदीप कांत said...

sochane par ham majaboor zaroor hote hain par karate kya hain?